Wednesday, May 22, 2024

MP News: मध्य प्रदेश के इस शहर में शादी में बजाया डीजे तो उलेमा नहीं पढ़ाएंगे निकाह

भोपाल: प्रदेश के खरगोन में मुस्लिम समाज ने एक बड़ा निर्णय लिया है। खरगोन के उलेमाओं ने फैसला किया है कि यदि मुस्लिम समाज के परिवारों में डीजे बजेगा या बैंड-बाजा के नाम पर शोर-शराबा किया जाएगा तो शहर के उलेमा उस परिवार में निकाह नहीं पढ़ाएंगे। इसे लेकर शहर के उलेमाओं ने एक बैठक की और ये अनूठा निर्णय लिया है। तंजीम उलेमा ए हुफ़्फ़ान कमेटी के जिम्मेदार उलेमाओं ने ये निर्णय लेकर समाज को इस पर अमल करने की अपील की है।

समाज भटक रहा है

शहर के उलेमाओं का कहना है कि शादी के नाम पर समाज भटक रहा है। इसलिए ये फैसला लिया गया है। बता दें, शहर के रामेश्वर टाकीज स्थित मदरसा इस्लामिया कार्यालय में आयोजित बैठक में मुफ़्ती तारिक, मुफ़्ती सोएब, मुफ़्ती इरफान, मुफ़्ती मोइज की मौजूदगी निर्णय लिए गए हैं। यदि अब किसी भी मुस्लिम की शादी में डीजे बजेगा या नाच गाना होगा तो कोई भी उलेमा निकाह नहीं पढ़ाएगा। इतना ही नहीं , निकाह अब केवल मस्जिदों में ही पढ़ाई जाएगी अन्य स्थान पर नहीं। साथ ही सामाजिक बुराई जैसे सट्टा, जुआ खेलने और शराब की लत पर रोक लगाने के लिए इसे हराम बताया गया और इस पर भी रोक लगाई गई है।

मोहल्ला कमेटी बनाई गई

समाज के सभी लोगों से ये अपील की गई है कि इस नियम को माने लेकिन यदि कोई ऐसा नहीं करता है तो समाज के लोग शादी में शरीक ना हो और बहिष्कार करें। इस फैसले को अमल में लाने के लिये मोहल्ला कमेटी भी बनाई जा रही है। बता दें कि सीएम मोहन यादव ने मुख्यमंत्री बनते ही सबसे पहला फैसला लाउड स्पीकर और डीजे पर प्रतिबंध लगाने का लिया था। अब समाज भी सीएम मोहन यादव के निर्णय को लोगों पर लागू करने के लिए समाजीक मुहर लगा रहा है। खरगोन के मुस्लिम समाज ने इस फैसले पर सामाजिक मोहर लगा कर सरकार का साथ देने की कोशिश कर रही है।

Latest news
Related news