Wednesday, May 22, 2024

साल के अंत तक दौड़ेगी METRO , भोपाल में इंतजार, दोनों ही शहरों में ट्रायल रन तेज

भोपाल। भोपाल और इंदौर में मेट्रो प्रोजेक्ट तय समय से काफी पीछे चल रहे हैं। भोपाल में मेट्रो का 30.95 किमी और इंदौर में 31.46 किमी ट्रैक प्रस्तावित हैं। अब एमपी मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड ने प्रदेश में मेट्रो दौड़ाने की तैयारी तेज कर दी है। इंदौर और भोपाल में 5-5 मेट्रो से सिग्नलिंग, लोड समेत अलग-अलग स्पीड पर ट्रायल रन तेज कर दिए हैं। इसमें इंदौर मेट्रो भोपाल से आगे है। कॉरपोरेशन ने इंदौर में मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त से सर्टिफिकेट जारी करने के लिए सितंबर 2024 की तारीख तय की है। यहां से अनुमति मिलते ही दिसंबर 2024 तक इंदौर की जनता को मेट्रो की सुविधा मिलने लगेगी। कॉरपोरेशन के अफसरों का कहना है कि इंदौर में अभी सब कुछ प्लानिंग के अनुसार हो रहा है। हमने दिसंबर 2024 तक जनता के लिए मेट्रो शुरू करने का लक्ष्य तय किया है।

कमर्शियल रन की चल रही तैयारी

भोपाल मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत वर्ष के अंत तक कमर्शियल रन शुरू हो सकता है। इसके चलते कमर्शियल रन की तैयारियां जोरों पर चल रहीं है। डिपो पर रोजाना मेट्रो को चलाया जाता है। इसके अलावा मेन लाइन पर मेट्रो को चलाकर टेस्टिंग जारी है। प्रायरिटी लाइन के सारे काम होने के बाद कमर्शियल रन सुभाष नगर डिपो से लेकर एम्स तक शुरू किया जाएगा। इसका रूट आठ किलोमीटर है । इस रन की शुरुआत पांच मेट्रो ट्रेन से होगी । वैसे प्रोजेक्ट के तहत 27 मेट्रो ट्रेनें चलाई जानी है। वर्तमान में पांच ट्रेनें आ चुकी है । एक ट्रेन में 3 कोच हैं।

भोपाल के दोनों मेट्रो स्टेशन का काम 70 फीसदी पूरा

भोपाल में सुभाष नगर से एम्स तक आठ मेट्रो स्टेशन बनाए जा रहे हैं। इसमें सुभाष नगर, केंद्रीय विद्यालय, बोर्ड ऑफिस चौराहा, एमपी नगर जोन-2, डीआरएम ऑफिस, रानी कमलापति, अल्कापुरी और एम्स में 8 स्टेशन बनाए जा रहे हैं। इसमें केंद्रीय विद्यालय, बोर्ड ऑफिस चौराहा, रानी कमलापति स्टेशनस एमपी नगर जोन-2 पर काम तेजी से चल रहा है। रानी कमलातपि और सुभाष नगर स्टेशन का काम 60 से 70 प्रतिशत तक पूरा हो गया है। हालांकि, एमपी नगर, केंद्रीय विद्यालय और बोर्ड ऑफ स्टेशन पर काम की रफ्तार अभी बहुत धीमी है।

5 साल पीछे चल रहा प्रोजेक्ट


दोनों ही शहरों में शुरुआत में मेट्रो 3-3 डिब्बों के साथ दौड़ेगी। हालांकि, मेट्रो स्टेशन को 6 डिब्बों के अनुसार तैयार किया जा रहा हैं। मेट्रो की शुरुआत के बाद यात्रियों की संख्या बढ़ने पर मेट्रो में डिब्बे बढ़ाए जाएंगे। बता दें, मध्य प्रदेश में डीपीआर के अनुसार साल 2021-22 में मेट्रो शुरू होना थी, लेकिन जरूरी अनुमतियां और कोविड महामारी तथा अन्य कारणों से METRO के काम में शुरूआत में देरी हुई।

दूसरे फेज की डिजाइन का काम शुरू


दूसरे फेज में सुभाष नगर से करोंद के बीच 8.77 किमी मेट्रो लाइन बिछाई जाएगी। इस काम को करने में 1540 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इस रूट पर दो मेट्रो स्टेशन के साथ 3.39 किमी लंबा अंडरग्राउंड रूट होगा। इसकी डिजाइन का काम शुरू हो गया है। इसके पूरा होने के बाद जमीन पर काम शुरू हो जाएगा।

Latest news
Related news